6 medicinal plants/herbs at home

6 medicinal plants/herbs at home

हेलो दोस्तो………अक्सर हमने देखा है कि लोगों को अपने घरों में छोटे छोटे प्लांट लगाने की आदत होती है। और ये बड़ा खूबसूरत भी लगता है जब हम अलग अलग प्लांट्स को अपने घर के गार्डन में देखते हैं। पर क्या आपने ये सोचा कि क्यों न हम ऐसे प्लांट्स लगाएं जो अच्छे दिखने के साथ साथ हमारे स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक हो। अनगिनत प्लांटस हैं हमारे नेचर में जो हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं और जिन्हें हमारे गार्डन में होना ही चाहिए। आइये जानते हैं 6 medicinal plants/herbs at home के बारे में, और ये भी जानेंगे की इनके क्या फायदे होते हैं। 

1-तुलसी ( basil- health benefits of basil)-

तुलसी का पौंधा अधिकांश घरों (विशेषकर हिन्दुओं) के आँगन में पाया जाता है। रोज़ सुबह इसकी पूजा करके जल 6 medicinal plants/herbs at homeअर्पण किया जाता है। प्राचीन ग्रंथों में भी तुलसी के औषधीय गुणों के बारे में बहुत जानकारी मिलती है। जिसके अनुसार तुलसी का प्रयोग बहुत सारी बिमारियों  को दूर करने के लिए किया जाता है। आइये जानते हैं तुलसी के गुणों के बारे में।

  • तुलसी के रोज़ सेवन करने से मस्तिष्क की कार्य करने की क्षमता बढ़ती है और याददाश्त तेज होती है।
  • तुलसी के तेल से पुराने से पुराना सिरदर्द भी सही हो जाता है।
  • तुलसी की पत्तियों से तेल बनाकर बालों में लगाने से उनमें मौजूद जूं और लीखें मर जाती हैं।
  • रंतौधी (Nightblindness) में भी तुलसी के पत्ते बहुत लाभकारी होते हैं ।
  • तुलसी के पत्ते कान के दर्द में भी लाभकारी होते हैं।
  • सर्दी जुकाम होने पर या मौसम में बदलाव आने पर, होने वाली समस्याओं के समाधान में तुलसी के पत्ते बहुत ही कारगर होते हैं।
  • तुलसी के पत्ते दाँत दर्द में भी राहत देते हैं।
  • तुलसी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है।
  • मासिक धर्म की अनिमितताओं में तुलसी बहुत कारगर होती है।

    please click here for more details
  • साँसों की दुर्गन्ध को दूर करती है।
  • त्वचा सम्बन्धी रोगों में तुलसी के पत्ते बहुत उपयोगी होते हैं।
  • आयुर्वेद के अनुसार तुलसी के बीजों का उपयोग मूत्र सम्बन्धी बिमारियों को दूर करने में किया जाता है।
  • चोट लगने पर  तुलसी के अर्क से बहुत फ़ायदा मिलता है

कैंसर जैसी लाइलाज समस्याओं में भी तुलसी के बीजों का उपयोग बहुत लाभकारी माना गया है।

पथरी की समस्या में तुलसी के पत्तों का सेवन लाभकारी माना गया है।

2 -मीठी नीम- करी पत्ता (curry leaves benefits)-

करी पत्ता खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ साथ कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। लगभग सभी घरों के गार्डन में करी पत्ता का प्लांट होता है। अक्सर हम सब इसका उपयोग दोसा, इडली, सांभर और पोहा बनाने में करते हैं लेकिन इसके औषधीय गुणों से अनजान रहते हैं।  आइये जानते हैं करी पत्ते के गुणों के बारे में –

  • इसमें आयरन और फोलिक एसिड होने के कारण यह शरीर में एनेमिया की कमी को दूर करता है।
  • करी पत्ता में पाए जाने वाले विटामिन ए और सी, लिवर में होने वाली कमी को पूरा करते हैं।
  • इसके सेवन से शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।
  • करी पत्ते में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होता है जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और दिल की बीमारियों से भी बचाता है।
  • ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है।
  • इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो हमारे पाचन तंत्र को ठीक रखता है।
  • जर्नल ऑफ चाइनीज मेडिसीन में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक करी पत्ते के सेवन से कीमोथेरेपी और रेडियो थेरेपी से होने वाले साइड इफेक्ट को कम किया जा सकता है।
  • एक रिसर्च के अनुसार करी पत्ते के लगातार सेवन से कैंसर के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है।
  • सर्दी, खांसी व कफ को भी दूर करता है।
  • बालों की मजबूती के लिए के भी इसका सेवन लाभकारी होता है।

3 -पुदीना (mint)-(benefits of mint)-(6 medicinal plants/herbs at home)

पुदीने का प्रयोग अक्सर हम चटनी बनाने के लिए करते हैं जो स्वाद में बहुत ही अच्छी होती ही है और साथ ही साथ कई गुणों से भरपूर होती है।  आइये जानते हैं इसके गुणों के बारें में –

  • पुदीना के पत्तो का रस, पाचन तंत्र में होने वाली गड़बड़ी को रोकता है।
  • त्वचा सम्बन्धी बिमारियों के लिए लाभदायक होता है।
  • गर्मी में लगने वाली लू  में पुदीने का रस बहुत कारगर होता है।
  • मुँह से बदबू आने पर पुदीने की पत्तियों को चबाने से फायदा होता है।
  • पुदीना कफ और वात दोषों को कम करता है।
  • यह दस्त, पेचिश, बुखार, पेट के रोग, लीवर आदि विकार को ठीक करने के लिए भी उपयोग में लाया जाता है।
  • कान सम्बन्धी बिमारियों में भी पुदीना लाभकारी होता है।
  • पुदीना की चाय सरदर्द से राहत दिलाती है।
  • पुदीना का पत्ता मुँह के छाले भी कम करता है।
  • पुदीना का काढ़ा, ठण्ड से होने वाली साँस नली के सूजन को कम करता है .

How to strengthen immunity

पुदीना के पोषक तत्व (nutrients of mint) –

पुदीना में कैलोरी के साथ साथ फाइबर भी होता है। इसमें विटामिन ए के साथ साथ आयरन, मैंगनीज़ व फोलेट भी होता है। ये एंटीऑक्सीडेंट का प्रमुख स्रोत होता है जो तनाव को कम करता है।

4-धनिया पत्ता (benefits of coriander leaf)-

ऐसा कोई घर नहीं होगा जहाँ धनिया पत्ता का उपयोग नहीं होता होगा। अलग अलग व्यंजनों में ऊपर से कटा हुआ medicinal plants name and pictureधनिया पत्ता डालने पर खाने का स्वाद तो बढ़ता ही है, खाना दिख़ता भी अच्छा है। धनिया की चटनी व पिसा हुआ नमक भी कई चीजों के साथ पसंद किया जाता है। लेकिन हम में से बहुत कम लोग जानते होंगे कि धनिया के कई औषधीय गुण होते है। जिन्हें हमें जरूर जानना चाहिए। आइये जानते हैं धनिया के औषधीय गुण –

  • धनिए की तासीर ठंडी होती है इसीलिए पेट की समस्याओं में इसका उपयोय होता है।
  • धनिया के बीजों का उपयोग वजन कम करने के लिए किया जाता है।
  • थाइरॉइड की समस्या में भी इसके बीजों का सेवन अच्छा माना जाता है। इसमें उपस्थित विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट हार्मोन को नियंत्रित करते हैं ।
  • पाचन सम्बन्धी समस्याओं के लिए भी धनिया बहुत लाभकारी होता है।

 

  • धनिया के बीज शुगर को कण्ट्रोल करने में भी लाभकारी होते हैं।
  • इसमें एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण ये त्वचा के लिए भी बहुत गुणकारी होता है।
  • बालों की समस्या होने पर धनिया का सेवन बहुत अच्छा होता है।
  • धनिया कोलेस्ट्रॉल व हाई ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है।
  • मूत्र सम्बन्धी रोगों में भी धनिया का उपयोग बहुत अच्छा माना जाता है।

5-लहसुन -(benefits of garlic)-

6 medicinal plants/herbs at home
6 medicinal plants/herbs at home

लहसुन हर घर की किचन में पाया जाता है और इसका उपयोग लगभग हर तरह के व्यंजनों में किया जाता है। ये खाने के स्वाद को बहुत बड़ा देता है और बहुत अच्छा फ्लेवर भी देता है। इसमें सल्फर नामक पदार्थ होता है जिसके कारण ये कई गुणों से युक्त हो जाता है। हमारे किचन में पायी जाने वाली एक महत्वपूर्ण औषधि है। आइये जानते है इसके गुणों के बारे में –

  • लहसुन के नियमित उपयोग से कोलेस्ट्रॉल कम होता है जिससे हार्ट सम्बन्धी बीमारी कम होती है।
  • अस्थमा में इसका सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है।
  • पाचन सम्बन्धी विकारों में लहसुन का सेवन लाभकारी होता है।
  • उच्च रक्तचाप में इसका सेवन अत्यंत लाभदायक होता है।
  • एक रिसर्च के अनुसार लहसुन के सेवन से शरीर में सफ़ेद रक्त कोशिकाएं बड़ती हैं जिससे कैंसर की कोशिकाएं घटने लगती है।
  • त्वचा विकारों में भी इसका उपयोग फायदा करता है।

लहसुन के पोषक तत्व (nutrients in garlic)- 

लहसुन में एक महत्वपूर्ण औषधीय तत्व होता है जिसे एलिकिन कहते हैं। इसमें जीवाणुरोधी व एंटीवायरल गुण तो होते ही है और साथ ही साथ लहसुन एंटीफंगल व एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। इसमें अनेक प्रकार के विटामिन व पोषक तत्व पाए जाते हैं जिनमें सेलेनियम, तांबा, कैल्शियम व मैगनीज़ आदि प्रमुख होते हैं। इसमें B1 ,B6 और विटामिन C विटामिन प्रमुखता से मिलते हैं।

6-एलोवेरा-(benefits of alovera)-

एलोवेरा के नाम से आजकल हर व्यक्ति परिचित है। भारत में जिस रफ़्तार से योग का प्रचार हुआ है उसी रफ़्तार से medicinal plants in India in hindiएलोवेरा का भी काफी प्रचार हुआ है क्योंकि इसके कई सारे हेल्थ बेनिफिट्स हैं। आजकल बाजार में एलोवेरा के बहुत सारे उत्पाद आसानी से मिल जाते हैं। जैसे एलोवेरा जेल, एलोवेरा जूस, एलोवेरा क्रीम आदि। एलोवेरा प्लांट को अपने गार्डन में लगाना भी बहुत आसान है। आइये जाने हैं इसके हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में –

  • इसमें ऐसे तत्व होते हैं जो हमारे शरीर में पाचन क्रिया को बड़ा देते हैं।
  • एलोवेरा जूस शरीर में जाकर नसों की सफाई करता है और एनर्जी भर देता है।
  • एलोवेरा में इस प्रकार के हॉर्मोन होते हैं जो शरीर की मृत कोशिकाओं को हटा कर नयी कोशिकाओं को बनाते हैं।
  • इसमें बहुत ही अच्छी हीलिंग प्रॉपर्टी होती है। इसीलिए जलने, कट जाने या फिर सन बर्न हो जाने पर इसको लगाने से बहुत जल्दी ही अच्छा लाभ हो जाता है।
  • एलोवेरा में एंटी एलर्जिक प्रॉपर्टी भी पायी जाती है इसीलिए कीटाणुओं के असर को समाप्त करता है।
  • एलोवेरा में एंटीऑक्सीडेंट पर्याप्त मात्रा में होते हैं इसीलिए शरीर की सूजन को भी कम करता है।
  • त्वचा को निखारता है और एंटी एजिंग का काम करता है।
please click here for detail
  • एलोवेरा बहुत ही अच्छा इम्युनिटी बूस्टर है। एलोवेरा की वजह से सेल्स में नाइट्रिक ऑक्साइड और साइटोकाइन्स बनने लगते हैं जिससे इम्यून सिस्टम को आवश्यक बूस्ट मिलता है।
  • ओरल हेल्थ के भी एलोवेरा को बहुत अच्छा माना गया है, मसूड़ों को मजबूती देता है और कीटाणुओं से बचाता है।
  • एलोवेरा में कई ऐसे तत्व होते हैं जो बालों की न बड़ने की समस्या का समाधान करते हैं। बालों के लिए  एलोवेरा बहुत ही अच्छा कंडीशनर है।
  • ये मेटाबोलिज्म रेट को बड़ा देता है इसीलिए वजन घटाने में बहुत कारगर है।

Disclaimer– All information is based on the knowledge of different books and articles of doctors which have been published in the papers. For further inquiries, please contact the doctor.

thanks for reading 6 medicinal plants/herbs at home.

4 thoughts on “6 medicinal plants/herbs at home

  1. Very useful information and we can boost our immunity with the help of these medicinal plants in this pandemic scenario…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *