Short stories collection in Hindi

Short stories collection in Hindi

Let’s read the collection of three stories. These interesting stories are of Akbar and Birbal, who are very famous personalities. Let’s start with one by one. I do hope you will enjoy these stories.(Short stories collection in Hindi)

 

Short stories collection in Hindi

 

1- सबसे प्यारी चीज़ (The dearest of all)

बादशाह अकबर दरबार में बैठे हुए थे। तभी उनके मन में एक सवाल आया कि कौन सी चीज़ दुनिया में सबसे प्यारी है ?

पूरे देश से बादशाह अकबर के पास अलग अलग उत्तर आने लगे।  जैसे – भगवान , धन, सम्मान , बच्चे ,प्यार , स्वर्ग इत्यादि।

बादशाह ने यही प्रश्न बीरबल से भी किया। बीरबल ने कहा कि बादशाह, किसी भी व्यक्ति के लिए उसकी जिंदगी सबसे प्यारी होती है और अपनी जिंदगी के लिए कोई भी व्यक्ति सबकुछ कुर्बान कर सकता है। बादशाह ने कहा तुम्हारी बात सही लग रही है, फिर भी तुमने अपनी बात को साबित करना होगा।

बीरबल ने कहा, ठीक है बादशाह अकबर, “मैं कल महल के तालाब में इस बात को सिद्ध करूँगा कि सबको अपनी जिंदगी  सबसे प्यारी होती है।”(Short stories collection in Hindi)

दूसरे दिन सुबह, बीरबल ने सबसे पहले पूरे तालाब को खाली करवा दिया और उसके बाद एक सैनिक से कहकर, महल के अंदर रहने वाले एक बन्दर और कुत्ते को वहाँ पर बुलवा लिया।

(बन्दर का नाम मीकू था और कुत्ते का नाम चन्टू था।  मीकू बन्दर और चन्टू कुत्ते में बहुत अच्छी दोस्ती थी क्योंकि ये दोनों बचपन से ही महल में साथ-साथ रहते थे। साथ ही खेलते और साथ ही खाते थे। महल में सभी लोग जानते थे कि मीकू और चन्टू एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते हैं इसीलिए बीरबल ने बादशाह को अपनी बात सिद्ध करने के लिए, मीकू और चन्टू को लेकर एक प्लान बनाया था)।

बीरबल के आदेश पर मीकू और चन्टू दोनों को तालाब में रख दिया गया। बीरबल के आदेश पर ही सैनिकों ने  तालाब को पुनः भरना शुरू कर दिया।

मीकू और चन्टू तालाब से बाहर आने की कोशिश कर रहे थे लेकिन जैसे ही पानी का स्तर बढ़ने लगा दोनों दोस्त साथ साथ तालाब से बाहर निकलने की कोशिश करने लगे, पानी बढ़ने के साथ साथ दोनों की कोशिशें भी बढ़ने लगी। अभी तक दोनों में बहुत ही अच्छी दोस्ती दिखायी दे रही थी। परन्तु  पानी का स्तर जैसे जैसे कमर तक पहुँचने लगा, दोनों एक दूसरे के ऊपर चढ़कर बाहर जाने का प्रयास करने लगे और आपस में लड़ने लगे। पानी का स्तर नाक पर आते ही दोनों की लड़ाई तेज हो गई जिसमें चन्टू कुत्ते ने मीकू बन्दर को गिरा दिया और उसके ऊपर चढ़के खड़ा हो गया और अपने अंतिम प्रयास में बाहर आने का प्रयास करने लगा।  

हिंदी कहानी “सच्ची देशभक्ति” 

 बीरबल अपनी बात को सिद्ध कर चुका था इसीलिए उसने तुरंत आदेश देकर मीकू और चन्टू की जान बचाई और उनको तालाब से निकलवा लिया।

अब बादशाह अकबर के साथ साथ वहाँ पर खड़ा हर व्यक्ति इस बात से सहमत था की किसी भी व्यक्ति के लिए उसकी जिंदगी से बड़कर कुछ नहीं होता है।   ◊◊◊◊◊ (Short stories collection in Hindi)

 

 

2- ईमानदारी (Honesty)

बादशाह अकबर ने एक दिन बीरबल से पूछा, कि क्या मेरे राज्य के लोग ईमानदार हैं ? बीरबल ने कहा नहीं हुजूर, हर आदमी किसी न किसी तरह से बेईमान होता ही है। ईमानदार लोग बहुत कम होते हैं जिनको हम उँगलियों में गिन  सकते हैं।

बादशाह, बीरबल का उत्तर सुनकर बहुत आश्चर्यचकित हो गए और उनको इस बात का विश्वास नहीं हो पा रहा था कि उनके राज्य में बेईमान लोग भी रहते हैं। उन्होंने बीरबल को आदेशित किया कि  अपनी बात को सिद्ध करे।

दूसरे दिन बीरबल ने बादशाह की ओर से मुनादी करवाई कि, आज रात को गरीब लोगों को खिलाने के लिए सब अपने घरों से एक बर्तन में थोड़ा-थोड़ा दूध लायेगें ओर महल के बाहर रखे बड़े टैंक में डाल देगें। नगर के सभी लोगों को अपना सहयोग देने के लिए कहा गया।

हर व्यक्ति यही सोचने लगा कि जब सभी को दूध ही डालना है तो मैं क्यों न पानी डाल दूँ, किसी को पता भी नहीं चलेगा। कुछ ही लोगों ने ईमानदारी से दूध डाला, बाँकी सभी लोगों ने बेईमानी करते हुए दूध के बदले पानी डाल दिया। वे इस बात से निश्चितं थे कि बादशाह हो या बीरबल, कोई भी उनको नहीं पकड़ सकता।

अगले दिन सुबह, जब अकबर और बीरबल ने टैंक देखा, तो पाया कि टैंक पूरा पानी से भरा था। यह सिद्ध हो गया था कि कुछ ही लोगों ने टैंक में दूध डाला था बाकि सभी लोगों ने पानी डाला था। अकबर, बीरबल को देखकर मुस्कुराने लगे और कहने लगे -“बीरबल तुम बिल्कुल सही हो मेरे राज्य में भी बहुत सारे लोग बेईमान हैं। तुमने तो मेरी आँखे खोल दी हैं। तुम्हारे पास मेरे हर प्रश्न का उत्तर होता है”, ऐसा कहकर बादशाह अकबर ने बीरबल को अपने गले से लगा लिया। ◊◊◊

 

 

३- बर्तन की मृत्यु  (Death of a pot)

 बादशाह अकबर का दरबार लगा हुआ था। नगर के कई सारे लोग दरबार में आकर एक बर्तन के व्यापारी की शिकायत करने लगे। काफी शिकायतें आने के बाद बादशाह को मामला गंभीर लगा, इसीलिए उन्होंने इसकी जाँच बीरबल को सौंप दी और मामले को जल्दी निपटाने की हिदायत दी। 

बीरबल ने मामले की जाँच करी और पाया की वास्तव में वह व्यापारी एक धोखेबाज है। बीरबल ने उस व्यापारी को सबक सीखने का निर्णय लिया।

एक दिन बीरबल उस व्यापारी के पास गया और उससे दो बर्तन, दो दिन के लिए किराये पर ले लिए। दो दिन के बाद बीरबल फिर से गया और इस बार दो किराये के बर्तनों के साथ साथ एक छोटा बर्तन भी उसने व्यापारी को दिया, और कहा कि तुम्हारे बर्तनों ने एक छोटे बर्तन को जन्म दिया है कृपा करके इसे भी रख लें।

व्यापारी आश्चर्यचकित था परन्तु लोभवश उसने बिना कुछ बोले तीसरा बर्तन भी रख लिया। कुछ दिनों के बाद बीरबल फिर से उस व्यापारी के पास गया और इस बार एक बड़ा और महँगा बर्तन, दो दिन के लिए किराये पे ले लिया।

दो दिन के बाद बीरबल फिर से व्यापारी के पास गया पर इस बार वो खाली हाथ था। यह देखकर वह व्यापारी बोला -“मेरा बर्तन कहाँ है?”

बीरबल ने कहा – श्रीमान, बड़े दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि आपके बर्तन की अचानक मृत्यु हो गयी है। व्यापारी चिल्लाकर बोला -“क्या कह रहे हो? क्या बर्तन की भी कभी मृत्यु हो सकती है ?”

तब बीरबल ने बहुत ही शांत होकर उत्तर दिया – “क्यों नहीं ?” अगर एक बर्तन पैदा हो सकता है तो मर भी तो सकता है। “

इतना सुनते ही व्यापारी को अपनी गलती का एहसास हो गया। वह बहुत शर्मिंदा हुआ। बीरबल ने उसको चेतावनी दी कि वह अपनी आदतें सुधार ले। उसने बीरबल को वादा किया कि वह अब कभी भी धोखेबाजी नहीं करेगा।

जब अकबर ने इस घटना के बारे में सुना तो वह हँसे बिना नहीं रह सके। ΟΟΟΟΟΟ

 

 

Thanks for reading these stories Short stories collection in Hindi

you may also read

two brothers and spider web

motivational story बात छोटी सीख बड़ी 

One thought on “Short stories collection in Hindi

  1. ये कहनिया हिंदी e-book रीडर के लिए सुविधाजनक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *